Tuesday, May 17, 2022
Banner Top

ANM निहा खान को उनकी सभी सेवा से बर्खास्त कर दिया गया है और उनके खिलाफ आईपीसी की विभिन्न धाराओं के तहत मामला भी दर्ज किया गया था, अलीगढ़ जिले के एक प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में कूड़ेदान में फेंकी थी 29 वैक्सीन से भरी सीरिंज।

Aligarh: Services of ANM Neha Khan terminated, case filed under various sections of IPC

अलीगढ़ के सिविल लाइंस थाने में निहा खान के खिलाफ आईपीसी की धारा 203, 176, 465, 427, 120 बी 3/4 के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई है। अलीगढ़ के मुख्य चिकित्सा अधिकारी (सीएमओ), डॉ भानु प्रताप कल्याणी की शिकायत के आधार पर निहा खान पर मामला दर्ज किया गया है, जिसमें कहा गया है कि जमालपुर पीएचसी में 29 COVID वैक्सीन भरी हुई सीरिंज को कचरे में फेंक दिया गया था और लाभार्थियों को ‘टीकाकरण’ के रूप में चिह्नित किया गया था। विश्वासघाती कृत्य को कवर करने के आरोपी केंद्र के प्रभारी डॉ आफरीन का भी प्राथमिकी में नाम लिया गया है।

जैसे ही इस घटना की जानकारी आला अधिकारियों को लगी तो इस मामले की जांच डॉ एम.के.माथुर और डॉ दुर्गेश कुमार को दी गई। जिला स्वास्थ्य समिति की बैठक में दोनों अधिकारियों ने जांच रिपोर्ट सौंप दी है। जांच में ANM नेहा खान और मेडिकल ऑफिसर डॉ आरफीन को दोषी पाया गया है। प्रशासन ने कार्रवाई की तैयारी कर ली है। इससे पहले शनिवार देर रात प्रभारी चिकित्साधिकारी डा. आरफीन जेहरा व संविदा एएनएम नेहा खान के खिलाफ मामला दर्ज कराया था।

प्रारंभिक जांच में मिले प्रमाण है कि नेहा खान द्वारा आपराधिक मानसिकता, नफरत की भावना व वैक्सीनेशन अभियान को नुकसान पहुंचाने के लिए ये घिनौना कृत्य किया।  वहीं उसने वैक्सीन तो बर्बाद किया, साथ ही जिन लोगों का वैक्सीनेशन हो रहा था, उनको यदि भविष्य में कोरोना से नुकसान होता तो भारतीय वैक्सीन पर सवाल भी उठते। इस घटना के बाद सभी जगहों पर ऐसी आपराधिक मानसिकता वालों से एहतियात बरतने के निर्देश दिए गए है।

Social Share

Related Article

0 Comments

Leave a Comment

advertisement

FOLLOW US

RECENTPOPULARTAG

advertisement